असुर गुरु शुक्राचार्य

हमारे ऋषि-मुनि, भागः 9 गुरु जब ध्यान लगाकर बैठे, तो असुरों की चालाकी समझ गए। उन्होंने राख बने कच को कहा, चिंता मत कर। मैं तुझे ऐसी विद्या देता हूं कि तुम जीवित हो सको। मेरे पेट को फाड़ कर बाहर आने की तुम्हें अनुमति है। इससे मेरी मृत्यु हो जाएगी। तुम बाहर आकर मुझे […] Divya Himachal: No. 1 in Himachal news - News - Hindi news - Himachal news - latest Himachal news .

दिव्या हिमाचल 12 Oct 2019 12:05 am