ध्येय के अनुरूप ही होगा मन का परिवर्तन

परम लक्ष्य को प्राप्त करने की यात्रा में भौतिकता का महत्वपूर्ण स्थान है। उसके बिना आगे के सोपानों को तय कर पाना संभव नहीं। लेकिन वास्तव में मनुष्य का अस्तित्व स्थूल, सूक्ष्म और आत्मिक का सुंदर समन्वय...

लाइव हिन्दुस्तान 2 May 2019 10:08 am