ये नवरात्र लेकर आई खुशियों की सौगात, केवल एक बार कर लें ये उपाय

आश्विन मास की शारदीय नवरात्र 29 सितंबर दिन रविवार से शुरू हो चूकी है। नौ दिनों तक माँ दुर्गा भवानी के 9 रूपों की पूजा-अर्चना होगी। कई लोग नवरात्र के 9 दिन तक विशेष पूजा आराधना के साथ माता को प्रसन्न करने के लिए तरह-तरह के उपाय भी करते हैं। अगर किसी के जीवन में किसी भी तरह की समस्या, परेशानी हो तो यह नवरात्र आपके लिए अनेक खुशियों की सौगात लेकर आई है। नवरात्र में किसी भी दिन नीचे दिए गए उपाय को केवल एक बार करके देखें माँ दुर्गा कृपा से जीवन सुखमय होने लगेगा।   अक्टूबर 2019 में ये प्रमुख व्रत, पर्व और त्यौहार मनाएं जाएंगे 1- इस नवरात्र में धन प्राप्ति के लिए यह उपाय करें- आश्विन शारदीय नवरात्रि में शुद्ध होकर माँ दुर्गा के मंदिर या अपने घर में ही पूजा स्थल पर उत्तर दिशा की ओर मुख करके पीले आसन पर बैठ जाएं। - अब मिट्टी या दीपक के नये 9 दीपक माता के सामने जला लें। - ध्यान रखें जप तक आपकी पूजा चलती रहे तब तक ये दीपक जलते रहने चाहिए। - दीपक के सामने लाल चावल की एक ढेरी बनाकर उस पर एक श्रीयंत्र स्थापित कर कुंकुम, फूल, धूप, दीप से पूजन करें। - पूजन के बाद इस मंत्र का जप नौ दिनों तक रोज सुबह-शाम 108+108 बार सफेद स्फटिक की माला से करें। ।। ऊँ श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्मयै नम: ।। - मंत्र जप पूरा होने के माता से अपनी मनोकामना की प्रार्थना करें। - अंतिम दिन सुबह श्रीयंत्र को अपने पूजा स्थल पर स्थापित कर लें और शेष पूजा सामग्री को किसी मंदिर में पेड़ के नीचे गाड़ दें। - इस उपाय से कुछ ही दिनों में अचानक अथाह धन लाभ हो सकता ।   इस नवरात्र सोया भाग्य चमक जाएगा, सप्तमी, अष्टमी और नवमी तिथि को कर लें इनमें से किसी एक मंत्र का जप 2- इस नवरात्र में मनचाही नौकरी या व्यापार के लिए इस उपाय को करें- आश्विन शारदीय नवरात्रि में हर रोज सुबह घर के पूजा स्थल में एक सफेद रंग का सूती आसन बिछाकर उस पर पूर्व दिशा की ओर मुख करके उस पर बैठ जाएं। - अब अपने सामने पीला कपड़ा बिछाकर उस पर 108 दानों वाली स्फटिक की माला रख दें और इस पर केसर व इत्र छिड़क कर इसका धूप, दीप से पूजन करें। - पूजन के बाद नीचे दिये मंत्र का 551 बार उसी स्फटिक की माला से जप करें, जप सुबह और शाम को दोनों समय करना है। इस उपाय के बाद माता दुर्गा की कृपा से मनचाही नौकरी और व्यापार की इच्छा पूरी होगी। ।। ऊँ ह्लीं वाग्वादिनी भगवती मम कार्य सिद्धि कुरु कुरु फट् स्वाहा ।।

पत्रिका 1 Oct 2019 1:01 pm