विष्णु पुराण

मर्यादां स्थापयामास यथास्थान यथागुणम्। वर्णानामश्रमानां व धर्मान्धर्म भूतां वर। लोकांश्च सर्ववर्णाना सम्यन्धर्मानुपालिनाम्। प्रजापत्य ब्राह्मणानां स्मृतं स्थानक्रिवताम्। स्यानमेंद्र क्षत्रियाणां संग्रामेष्वनिवर्तिनाम्। वैश्यानां मारुतं स्थान स्वधर्मनुव्रर्तिनाम्। गान्धर्व शूद्रजातीनां परिचर्यानुवर्तिनाम्। हे महापते! जिसके अंतःकरण में इस कालरूप पाप बिंधुता की वृद्धि होती है, वे यज्ञ की तरफ रुचि नहीं […]

दिव्या हिमाचल 28 Sep 2019 12:05 am