श्रद्धा से किया गया कर्म श्राद्ध कहलाता है। अपने पितरों"> श्रद्धा से किया गया कर्म श्राद्ध कहलाता है। अपने पितरों" />