SENSEX
NIFTY
GOLD
USD/INR

Weather

32    C

Imphal 12 मई के बाद फिर लिखरू नदी पर पुल की मौत हाईवे हादसे में ड्राइवर, अप्रेंटिस की मौत

Imphal 12 मई के बाद फिर लिखरू नदी पर पुल की मौत हाईवे हादसे में ड्राइवर, अप्रेंटिस की मौत

समाचार नामा 16 May 2022 5:54 pm

सैनिक स्कूल से सेना में अफसर रैंक तक की नौकरियों में होती है आसानी, फीस भी कम, ये Admission प्रक्रिया

यदि आप अपने छात्र को सेना या किसी सेना की अधिकारी रैंक में भेजना चाहते हैं तो सैनिक स्कूल से बेहतर विकल्प नहीं हो सकता है। पूरे भारत में सैनिक स्कूलों की कड़ी रक्षा मंत्रालय के तहत 'सैनिक स्कूल सोसायटी' द्वारा संचालित किए जाती है। रक्षा अकादमियों में होने वाली भर्ती में क्षेत्रीय असंतुलन से छुटकारा पाने के उद्धेश्य स्कूलों का संचालन हुआ। इसके अलावा इन स्कूलों के माध्यम से ऐसे युवाओं को चुनना था जो यहां से निकलकर देश की सेवा में भागीदार बन सकें। इन स्कूलों में प्रवेश लेने के लिए कुछ शर्तें हैं। जैसे कि सैनिक स्कूलों में सिर्फ लड़कों को प्रवेश दिया जाता है। यदि आप अपने बेटे का सैनिक स्कूल में दाखिला करवाना चाहते हैं तो उसके छठी व नौवीं कक्षा में पढ़ने के दौरान ही प्रवेश दिला सकते हैं। इस दौरान बच्चे की आयु 10 से 12 वर्ष और 13 से 15 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए। इसके लिए सैनिक स्कूल सोसायटी द्वारा प्रति वर्ष प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाती है। रक्षा अकादमी (NDA) और भारतीय नौसेना अकादमी (INA) के आज पूरे भारत में ऐसे 33 स्कूल हैं। ये स्कूल संबंधित राज्य सरकारों और रक्षा मंत्रालय के दायरे में आते हैं। यहां पब्लिक स्कूलों से कम फीस पर बेहतरीन पढ़ाई के लिए प्रवेश करा सकते है। एडमिशन के लिए ऐसे करें एप्लाई सैनिक स्कूल में दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा हर साल जनवरी में होती है। सैनिक स्कूल सोसायटी या सैनिक स्कूल एडमिशन की आधिकारिक वेबसाइट www.sainikschooladmission.in पर जाकर आवेदन की प्रक्रिया पूरी कर सकते हैं। सैनिक स्कूल का टेस्ट थोड़ा कठिन होता है। तैयार करके प्रवेश परीक्षा देनी चाहिए। यह भी पढ़े - मिलिट्री स्कूल में एडमिशन का मतलब बच्चे को नौकरी में आसानी, आप भी जानिए एडमिशन के नियम हॉस्टल में रहकर करनी होती है पढ़ाई सैनिक स्कूल पूरी तरह से आवासीय तथा इंग्लिश मीडियम के स्कूल होते हैं। इन स्कूलों में सीबीएसई, नई दिल्ली से संबद्ध पाठ्यक्रम द्व्रारा पढ़ाया जाता है। प्रत्येक स्कूल में फैकल्टी की कोई कमी नहीं होती है। यहां सभी तरह का प्रशिक्षण देने के लिए व्यापक बुनियादी ढांचा और जमीन है, ताकि कैडेट्स को अनुकूल वातावरण में ढाला जा सके। उत्तर प्रदेश में भी खुलेंगे सैनिक स्कूल निजी क्षेत्र की भागीदारी के साथ ये 21 नए सैनिक स्कूल उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, पंजाब, राजस्थान के अलावा आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, असम, छत्तीसगढ़, दादरा नगर हवेली, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, नागालैंड, ओडिशा, तेलंगाना और तमिलनाडु में खोले जाएंगे। यह भी पढ़े - यूपी में बंद हो गए 26 हजार स्कूल, महामारी के बाद अभिभावकों ने ही नहीं भेजा स्कूल नियमों के अनुरूप होता है संचालन देश में अभी 33 सैनिक स्कूल हैं,जो रक्षा मंत्रालय की सैनिक स्कूल सोसायटी द्वारा संचालित हैं। ये स्कूल पूरी तरह से आवासीय हैं। सभी नए स्कूलों को सैनिक स्कूल सोसायटी के नियमों के अनुरूप ही संचालित किया जाता। नए सैनिक स्कूलों में भी कक्षा छह से नामांकन होगा। 40 नामांकन ऑल इंडिया सैनिक स्कूल एंट्रेस एग्जाम के आधार पर होंगे। शेष 60 बच्चों का चयन उसी स्कूल में पढ़ रहे बच्चों में से होगा। लेकिन इसके लिए भी एक टेस्ट होगा जिसकी सूचना अलग से जारी की जाएगी। यह भी पढ़े - UP Board Result Date: कॉपियों का पूरा हो चुका मूल्यांकन, इस तारीख तक परिणाम हो सकता है घोषित सैनिक स्कूल में एडमिशन से लाभ समाज के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों के बच्चों को राष्ट्र के सशस्त्र बलों और अन्य प्रसिद्ध व्यवसायों में एक अधिकारी के रूप में शानदार कॅरियर बनाने में सक्षम बनाता है। यह स्कूल कैडेटों के सर्वांगीण विकास पर जोर देता है। यहां छात्रों को देश की रक्षा सेवाओं में अधिकारियों के रूप में नेतृत्व करने के लिए तैयार किया जाता है। ग्रामीण बच्चों को भी गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के साथ ही उनमें देशप्रेम की भावना जगाना। गरीब परिवार के बच्चे यदि वे टैलेंटेड हैं तो उन्हें हर तरह की सहायता कर आगे बढ़ाना। देश में अभी यहां है सैनिक स्कूल 1. आंध्र प्रदेश – सैनिक स्कूल, कोरूकोंडा (Korukonda) 2. आंध्र प्रदेश – सैनिक स्कूल, कालीगिरी (Kalikiri) 3. अरूणाचल प्रदेश – सैनिक स्कूल, पूर्व सियांग(East Siang) 4. असम – सैनिक स्कूल, गोवालपारा(Goalpara) 5. बिहार – सैनिक स्कूल, नालन्दा (Nalanda) 6. बिहार – सैनिक स्कूल, गोपालगंज(Gopalganj) 7. छत्तीसगढ़ – सैनिक स्कूल, अम्बिकापुर (Ambikapur) 8.गुजरात – सैनिक स्कूल, बलचदि (Balachadi) 9. हरियाणा – सैनिक स्कूल, कुंजपुरा (Kunjpura) 10. हरियाणा – सैनिक स्कूल, रेवाड़ी (Rewari) 11. हिमाचल प्रदेश – सैनिक स्कूल, सुजानपुर टीरा (Sujanpur Tira) 12. जम्मू & कश्मीर – सैनिक स्कूल, नगरोटा(Nagrota) 13.झारखण्ड – सैनिक स्कूल, तिलैया(Tilaiya) 14. कर्नाटक – सैनिक स्कूल, बीजापुर(Bijapur) 15.कर्नाटक – सैनिक स्कूल, कोडागू (Kodagu) 16.केरल – सैनिक स्कूल,कज़हाकूट्टम (Kazhakootam) 17. मध्यप्रदेश – सैनिक स्कूल, रेवा (Rewa) 18. महाराष्ट्र – सैनिक स्कूल, सतारा (Satara) 19. महाराष्ट्र – सैनिक स्कूल, चन्द्रपुर (Chandrapur) 20. मणिपुर – सैनिक स्कूल, इम्फाल (Imphal) 21.मिजोरम – सैनिक स्कूल, चिंचचिप(Chhingchhip) 22. नागालैण्ड – सैनिक स्कूल, पुंगलवा (Punglwa) 23. ओडिसा – सैनिक स्कूल, भूनेश्वर (Bhubaneswar) 24. ओडिसा – सैनिक स्कूल, सम्बलपुर (Sambalpur) 25. पंजाब – सैनिक स्कूल, कपूरथला (Kapurthala) 26. राजस्थान – सैनिक स्कूल, चित्तौड़गढ़ (Chittorgarh) 27. राजस्थान – सैनिक स्कूल, झुन्झूनू (Jhunjhunu) 28. तमिलनाडू – सैनिक स्कूल, आमरवथिनगर (Amaravathinagar) 29. उत्तरप्रदेश – सैनिक स्कूल, मैनपुरी (Mainpuri) 30. उत्तरप्रदेश – सैनिक स्कूल, झाँसी (Jhansi) 31. उत्तरप्रदेश – सैनिक स्कूल, अमेठी (Amethi) 32. उत्तराखण्ड – सैनिक स्कूल, घोड़ाखाल (Ghorakhal) 33. पश्चिम बंगाल – सैनिक स्कूल, पुरूलिया (Purulia) यह भी पढ़े - सातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतें

पत्रिका 12 May 2022 12:30 pm